DentistTooth sensitivity

जानिये टूथ सेंसिटिविटी से जुड़ी सारी जानकारी : डॉ लोकेश कुमार

टूथ सेंसिटिविटी की समस्या से परेशान अधिकतर लोग , इसके कारणों को अनदेखा कर देते हैं ; और फिर धीरे – धीरे अपना पसंदीदा खाना , दाँतों में झनझनाहट के कारण छोड़ देते हैं । मगर जीवन के इन खास पलों को हाथ से जाने क्यूँ देना , जब एक बिना टूथ सेंसिटीविटी वाली जिंदगी की शुरूआत आपके ही हाथ में है । बस एक बार अपनी ओरल केयर आदतों को बदलकर देखिये।

Dr. Lokesh Kumar
B.D.S (Hons.) MIDA
Oral & Dental Surgeon

आज भारत में हर तीन में से एक व्यस्क यानि पूरे 34% लोगों को टूथ सेंसिटिविटी की समस्या है । टूथ सेंसिटिविटी एक आम समस्या है । इसके कई कारण हैं , जिसमें से एक कारण है इनामेल का घिसना । आमतौर पर इनामेल जोर से ब्रश करने से या बहुत ज्यादा एसीडिक खाने पीने की चीजों का सेवन करने से घिस सकता है । टूथ सेंसिटिविटी की शुरूआत तब होती है जब इनामेल के घिसने पर दाँतों का अंदरूनी नरम हिस्सा , एक्पोज़ हो जाता है , जिससे खाने पीने की चीजें जैसे (कोल्डड्रिंक या आइस क्रीम) अन्दर की नसों को उत्तेजित कर देती हैं और दांतों में एक तेज़ झनझनाहट का एहसास कराती है ।

इसके चलते तनाव और घबराहट के कारण टूथ सेंसिटिविटी को लेकर बहुत से
भ्रम लोगों के मन में बने रहते हैं ।

कुछ ऐसे ही भ्रम की सच्चाई हम आपको बताएँगे ।

भ्रम – 1 : दाँतों में कैविटी से सेंसिटिविटी होती है ।
सच्चाई : यह कुछ हद तक सही है , मगर हमेशा ऐसा नहीं होता । दाँतों में कैविटी से कई बार सेंसिटिविटी हो सकती है । मगर बहुत बार टूथ सेंसिटिविटी इसके बिना भी आ सकती है । क्योंकि दाँतों में झनझनाहट का मुख्य कारण है , इनामेल का पिसना जिससे उसका अदरूनी नरम हिस्सा एक्सपोज़ हो जाता है।

भ्रम – 2 : केवल ठंडा या मीठा खाने से टूथ सेंसिटिविटी होती है ।
सच्चाई : जब दाँतों का अदंरूनी नरम हिस्सा किसी भी ठंडे या गर्म , मीठे या खटे खाने के सम्पर्क में आता है , तो इससे दाँतों की नसे उत्तेजित हो जाती हैं और एक तेज़ झनझनाहट का एहसास होता है।

भ्रम – 3 : टूथ सेंसिटिविटी एक अस्थाई समस्या । यह समय के साथ चली जाती है।
सच्चाई : दाँतों में झनझनाहट भले ही कुछ समय के लिए होती हो , मगर टूथ सेंसिटिविटी अगर अनुपचारित रह जाऐ तो यह आपकी रोजमर्रा की जिन्दगी में बाधा डाल सकती है । एक बार अगर दाँतों कि अंदरूनी सतह , यानि इनामेल पिस जाए तो यह दोबारा नहीं आती । इसी के कारण टूथ
सेंसिटिविटी स्थाई समस्या बन सकता है।

भ्रम – 4 : खाना खाते ही ब्रश करना एह अच्छी आदत है ।

सच्चाई :ब्रश करना एक अच्छी आदत है मगर खाना खाते ही ब्रश करने से फायदे कम , और नुकसान अधिक हैं । कुछ खाने या पीने के बाद आपके दाँतों कि ऊपरी सतह कुछ समय के लिए नाजुक हो जाती है । और जब आप ब्रश करते हैं , तो खाने के एसिड आपके इनामेल तक पहुँचकर नुकसान पहुँचाते है , और सेंसिटिविटी की समस्या को और भी बढ़ा दे सकते है।

भ्रम 5 : टूथ सेंसिटिविटी का कोई इलाज नही।
सच्चाई : सेंसिटिव दाँतों को आराम पहुँचाना आसान है । आपकी सेंसिटिविटी की समस्या जैसी भी हो , उससे आराम पहुँचाने के लिए डेंटिस्ट आपको एक खास डीसेंसिटाईजिंग टूथपेस्ट या अन्य तरीकों सुझाव अवश्य देंगे।

भ्रम 6 : टूथ सेंसिटिविटी समय के साथ नही बढ़ती ।
सच्चाई : लगातार इनामेल के घिसने से उसके अदंरूनी नरम हिस्से का एक्सपोंज़र बढ़ता है । जिससे दाँतों में झनझनाहट बढ़ सकती है और यह और भी तकलीफदेय हो सकती है।


भ्रम 7 : सेंसिटिविटी से आराम दिलाने वाले टूथपेस्ट का इस्तेमाल या तो कुछ समय के लिए करना चाहिए , या इसे रोजाना के टूथपेस्ट के साथ इस्तेमाल करना चाहिए ।
सच्चाई : टूथ सेंसिटिविटी से आराम मिलना सम्भव है , यदि आप अपने रोज़ाना के टूथपेस्ट के बजाय एक डीसेंसिटाईजिंग टूथपेस्ट का इस्तेमाल करेंगे । इसका खास फार्मूला आपको सेंसिटिविटी की समस्या से राहत पहुँचाने के लिए ही बना है।

ओरल हेल्थ फाऊंडेशन के अनुसार हर चार मे एक व्यस्क ने माना है कि वह दिन मे दो बार ब्रश नहीं करते । और हर दस में से व्यस्क मानता है कि वे कई बार ब्रश करना तक भूल जाते है । 42 % लोग केवल टूथपेस्ट और ब्रश के इस्तेमाल से अपने दाँत साफ करते है । और हर तीन में से एक इंसान ने कभी भी फलोस का इस्तेमाल नहीं किया है ।

इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए , यहाँ हर वर्ग के लोगों के लिए कुछ आसान और आरामदायक टिप्स हैं ताकि आप सब एक बेहतर ओरल हाइजीन की ओर बढ़ सके।

  • कम से कम 2 मिनट के लिए , दिन में दो बार अवश्य ब्रश करें ।
  • ज्याद तेज़ या ज्याद रगड़ कर ब्रश ना करें।
  • फलोस का इस्तेमाल करते रहें।
  • माउथवाश का इस्तेमाल करें।
  • शुगर – फ्री गम खाएँ।
  • अपनी जीभ को साफ करना ना भूलें खाने के साथ पानी या दूध ज़रूर पीएं ।
  • कुरकुरी सब्जी का सेवन करें।
  • दाँतों को आपस में ना घिसे।
  • एसिडिक खाने या पीने से बचें ।

अगर आपको भी कोई ऐसी ही दाँतों में तकलीफ हो , खासकर के जब वो लगातार हो , तो अपने डेंटिस्ट के पास जरूर जाएँ । और उनसे अपने दाँतों की सही देखभाल के लिए सलाह अवश्य लें । इसके अलावा उनसे अपने दाँतों को ब्रश कब और कैसे करें इसकी जानकारी ज़रूर लें टूथ सेंसिटिविटी होने जानकारी मिलने पर , अपने आम टूथपेस्ट की जगह एक स्पेशलाइड टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें इससे आपको सेंसिटिविटी से राहत मिलेगी और आप फिर से अपना पसंदीदा खाने एवम पीने का सेवन कर पाएगें । इसके अलावा , इन सभी अच्छी आदतों को अपनाने से और भी फायदे होंगे ।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close